Posts Tagged “national news”

शिशोदा में विद्यालय भवन का भूमि पूजन कार्यक्रम 22 सितम्बर को – आठ करोड़ की लागत से बनेगा प्रकल्प 

By |

 राजसमंद जिले की खमनोर पंचायत समिति के आदर्श गांव शिशोदा में आठ करोड़ की लागत से निर्मित होने जा रहे “श्रीमती कंकु बाई – सोहनलाल धाकड राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय, शिशोदा” के विद्यालय भवन का शिलान्यास समारोह 22 को आयोजित होगा ।
आयोजन से जुड़े प्रवीण हिरण के अनुसार प्रवासी समाजसेवी मेघराज धाकड के पारिवारिक ट्स्ट मंगल चैरिटेबल ट्रस्ट के माध्यम से निर्मित होने जा रहे अत्याधुनिक सुविधाओं से  सुसज्जित तीन मंजिला विद्यालय भवन का शिलान्यास श्रीमती कंकु देवी- सोहन लाल धाकड के हाथों  होगा ।
समारोह  में मुख्य अतिथि राजस्थान सरकार की केबिनेट मंत्री किरण माहेश्वरी होगी एवं अध्यक्षता सांसद हरि ओम सिंह राठौड़ करेंगे। विशिष्ट अतिथियों मे खमनोर प्रधान श्रीमती शोभा पुरोहित, माध्यमिक शिक्षा उदयपुर के उप निदेशक युगल बिहार दाधीच, जिला शिक्षा अधिकारी भरत कुमार जोशी सहित प्रशासनिक, राजनीतिक व सामाजिक क्षेत्र से जुड़ी हस्तियों की उपस्थिति रहेगी।
तीन मंजिला विद्यालय के कुल 38 कमरों का यह प्रोजेक्ट 2 वर्ष में पूर्ण होगा।  इसमें अध्ययन कक्ष 16,  सेमिनार कक्ष 1 , लेबोरेटरी कक्ष 7,   प्रार्थना कक्ष 1,  कॉन्फ्रेंस हाल 1, विद्यालय भवन के सामने बच्चों के लिए वॉलीबॉल बॉस्केटबॉल के ग्राउंड बनाए जाएंगे।
विद्यालय प्रागंण में होने वाले नवीन भवन के भूमि पुजन समारोह की तैयारियों को लेकर ट्रस्ट पदाधिकारियों की एक टीम ने कार्यक्रम स्थल का मुआयना कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। टीम के सदस्यों ने प्रधानाचार्य कौशलेंद्र गोस्वामी से मुलाकात कर मंच व्यवस्था, शिलान्यास, भोजन व्यवस्था, पूजन स्थल,  आतिथ्य सत्कार जैसी व्यवस्थाओं पर चर्चा कर उन्हें अमली जामा पहनाया गया।
आयोजन की तैयारियों को लेकर कमल हिगंड, भगवती धाकड,  विनोद धाकड, मनीष पालीवाल केसुली, देवीलाल सुथार, श्याम पालीवाल भंवर सेन, पन्नालाल सोलंकी, नाथुलाल धाकड,  लहरु दास, रुप सिहं चदाणा, हीर सिंह, शंकर सिंह, माँगू पालीवाल, खीम सिंह, अमर सिंह चदाणा आदि जुटे हुए हैं।

Read more »

स्वतंत्रता दिवस पर 123 लोगों ने किया रक्त दान – आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा 7वां शिविर आयोजित

By |





खमनोर। स्वतंत्रता दिवस के पावन अवसर पर आर्ट ऑफ लिविंग परिवार की ओर से मोलेला में आयोजित 7वें विशाल रक्तदान शिविर में 123 यूनिट रक्तदान हुआ।
शिविर में मुख्य अतिथि पंचायत समिति खमनोर प्रधान श्रीमती शोभा जे पुरोहित,विशिष्ट अतिथि सरल ब्लड बैंक संचालक संयम कुमार, करधर राजकीय उच्च विद्यालय के संस्था प्रधान रामचंद्र सैनी,अशोक बोहरा, ख्यालीलाल कोठारी आदि मौजूद रहे।
प्रधान श्रीमती पुरोहित ने इस शिविर की प्रशंसा करते हुए समाज उत्थान का संदेश देने वाले इस पुनीत आयोजन हेतु आयोजकों एवं कार्यकर्ताओं का धन्यवाद अर्पित किया।

शिविर में स्थानीय योग टीचर प्रवीण सनाढ्य आलोक सनाढ्य, तरुण कोठारी, सत्यनारायण सोनी,प्रताप सिंग, भेरूलाल कुम्हार,ललित कोठारी, नारायण कुम्हार, दिलीप, चेतन,परता, भेरू लखारा, भूपेश, नानालाल तेली, भंवर कुम्हार, कालूलाल, रमेश कोठारी, देवीलाल सुथार और नाथद्वारा से आये कार्यकर्त्ताओ ने विशेष योगदान दिया।




Read more »

महाराणा कुम्भा की जन्मस्थली माल्यावास में उमड़ा जनज्वार

By |

भव्य स्मारक बनाने के लिए केन्द्र सरकार देगी हरसंभव सहयोग – केन्द्रीय गृह मंत्री
मुख्यमंत्री ने की महाराणा कुंभा स्मारक बनाने की घोषणा
राजसमन्द, 14 जनवरी/मेवाड़ के संस्थापक महाराणा कुम्भा की जन्मस्थली माल्यावास मेंं भव्य महाराणा कुंभा स्मारक बनाया जाएगा। इसके लिए राजस्थान की मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे की ओर से की गई घोषणा का उपस्थित हजारों लोगों ने करतल ध्वनि से स्वागत किया और आभार जताया। मुख्यमंत्री की ओर से गृह मंत्री श्री गुलाबचन्द कटारिया ने यह घोषणा की और कहा कि इसके लिए राज्य सरकार के इस बार के बजट में प्रावधान किया जाएगा।
इस घोषणा के क्रम में ही केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथसिंह ने कहा कि मेवाड़ के संस्थापक महाराणा कुम्भा की जन्मस्थली मदारिया माल्यावास में भव्य महाराणा कुम्भा स्मारक बनाने और अन्य कार्यों के लिए केंद्र सरकार द्वारा हरसंभव सहयोग किया जाएगा।
उन्होंने इस संबंध में केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री डॉ. महेश शर्मा से हुई बातचीत का ब्यौरा देते हुए बताया कि महाराणा कुम्भा की स्मृति को चिरस्थायी बनाये रखने के लिए भारत सरकार वांछित योगदान प्रदान करेगी।
यह घोषणा रविवार को राजसमन्द जिले के मदारिया माल्यावास में महाराणा कुम्भा की 601 वीं जयंती पर महाराणा कुम्भा जन्मभूमि सेवा समिति की और से आयोजित मेवाड़ महाकुम्भ में की गई।
इसमें केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथसिंह मुख्य अतिथि थे जबकि अध्यक्षता राजस्थान के गृह मंत्री श्री गुलाबचन्द कटारिया ने की। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथसिंह ने मेवाड़ निर्माता प्रकाश स्तंभ महाराणा कुम्भा की तस्वीर के समक्ष पुष्पांजलि र्अपित की और दीप प्रज्वलित कर मेवाड़ महाकुम्भ का शुभारंभ किया। मुख्य अतिथि केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह एवं राजस्थान के गृह मंत्री श्री गुलाबचन्द कटारिया ने भामाशाहों श्री महेन्द्रसिंह आकेली एवं चावण्डसिंह सिन्देसर कला को शाल एवं स्मृति चिह्न प्रदान कर सम्मानित किया।


समारोह में राजस्थान के गृह मंत्री श्री गुलाबचंद कटारिया, उच्च शिक्षा मंत्री किरण माहेश्वरी, ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री राजेन्द्र राठौड़, राजस्थान धरोहर संरक्षण एवम प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री ओंकारसिंह लखावत, सांसद श्री हरिओमसिंह राठौड़ एवं श्री सीपी जोशी, राजस्थान मगरा विकास बोर्ड के अध्यक्ष श्री हरिसिंह रावत, देवगढ़ राजघराने के वीरभद्र सिंह, विधायक सुरेन्द्रसिंह राठौड़, आसीन्द विधायक श्री रामलाल गुर्जर, ब्यावर विधायक श्री शंकरसिंह रावत, मारवाड़ जंक्शन विधायक श्री केसाराम चौधरी, पूर्व सांसद श्री रासासिंह रावत, श्री शिवपाल सिंह, सहित क्षेत्र भर से जनप्रतिनिधि और विशाल जन समुदाय उपस्थित था।


केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि महाराणा कुम्भा की याद में होने वाले आयोजन केवल मदारिया तक ही सीमित न रहें बल्कि कुंभा का संदेश राजस्थान के कोने-कोने तक पहुंचना चाहिए।
गृहमंत्री के ओजस्वी संबोधन ने किया मुग्ध
उन्होंने महाराणा कुम्भा को साम्राज्य का ही नहीं बल्कि महान संस्कृति का संस्थापक बताया और मेवाड़ तथा राजस्थान की महिमा से परिचित कराते हुए कहा कि राजस्थान की धरती शौर्य-पराक्रम, बलिदान की गाथाओं से भरी रही है। राजस्थान की धरती राणा की शक्ति, मीरा की भक्ति, पन्ना की युक्ति, भामाशाह की संपत्ति और वीरांगनाओं की मुक्ति की भूमि है।
उन्होंने कहा कि मेवाड़ का इतिहास दुनिया के लिए प्रेरक है । इसमें आत्मसर्मपण नाम का कोई शब्द नहीं। या तो विजय है या फिर वीर गति। तीसरा कोई विकल्प है ही नहीं। उन्होंने कहा कि मेवाड़ की गौरव गाथा को जिस रूप में दर्शाया गया है उसे देख यह महसूस होता है कि इतिहास के साथ इंसाफ नहीं हुआ।
केन्द्रीय गृह मंत्री ने मेवाड़ के राजवंश की स्थापना, बप्पा रावल से लेकर अब तक कि परंपराओं और खासियतों, ऎतिहासिक गाथाओं आदि का स्मरण किया और इनसे प्रेरणा पाकर समाज और देश की एकता और अखंडता तथा नवनिर्माण में भागीदारी का आह्वान किया।
उन्होंने कहा कि देश की सीमाएं सुरक्षित हैं, अब कोई आँख उठाकर नहीं देख सकता। दुनिया में भारत की छवि मज़बूत और तेजी से विकसित तथा तीव्रतर र्आथिक विकास वाले देश की है। दुनिया के लोगों की धारणा बदल रही है।


मुख्यमंत्री की ओर से गृहमंत्री ने की स्मारक बनाने की घोषणा कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राजस्थान के गृह मंत्री श्री गुलाबचंद कटारिया ने महाराणा कुम्भा जन्मभूमि सेवा समिति के प्रयास की भूरी-भूरी प्रशंसा की और मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे की ओर से घोषणा की और कहा कि महाराणा कुम्भा की जन्मस्थली का भव्य विकास इस बार के बजट में शामिल किया जाएगा।
इसके लिए उन्होंने राजस्थान धरोहर संरक्षण समिति के अध्यक्ष ओंकारसिंह लखावत से योजना बनाने के लिए कहा। श्री कटारिया ने मेवाड़ के शौर्य-पराक्रम, वीरता, स्वाभिमान, साहस तथा मेवाड़ महिमा पर प्रकाश डाला और कहा कि आने वाली पीढियों तक मेवाड़ के इतिहास को पहुंचाने के लिए हरसंभव प्रयास करने पर जोर दिया। गृह मंत्री ने कहा कि राजस्थान में फिल्म पद्मिनी के प्रदर्शन को प्रतिबंधित कर दिया है लेकिन जन भावनाओं को देखते हुए देश भर में इस पर पाबंदी के प्रयास जरूरी हैं।
उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी ने मेवाड़ काम्प्लेक्स के विकास और विस्तार के प्रयासों, दिवेर में महाराणा प्रताप, बप्पा रावल, पन्नाधाय और, राणा राजसिंह पेनोरमा निर्माण, कुम्भलगढ़ किला, चित्तौडगढ़ दुर्ग आदि के लिए सरकार के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने चामुंडा माता मंदिर विकास, महाराणा कुम्भा र्मूति स्थापित करने, पेनोरमा विकसित करने के योजनाबद्ध प्रयासों पर बल दिया। उन्होंने फिल्म पद्मिनी के प्रसारण पर रोक की बात कही।
ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़ ने महाराणा कुम्भा समिति का आभार जताया और मेवाड़ की धरा को मान मर्यादा, शक्ति और भक्ति , त्याग और तपस्या की भूमि बताया और पद्मावती फ़िल्म को बेन करने का समर्थन करते हुए राजस्थान सरकार द्वारा किए गए प्रयासों की जानकारी दी।
उन्होंने महाराणा कुम्भा के विलक्षण और दिव्य जीवन का जिक्र किया और राजस्थान के इतिहास से जुड़े स्थलों और महापुरुषों के विकास तथा नई पीढ़ी तक ऎतिहासिक गाथाओं को पहुंचाने में राजस्थान सरकार और मुख्यमंत्री की तारीफ की। उन्होंने चित्तौड दुर्ग विकास व संरक्षण की जानकारी दी तथा सभी से कहा कि वे सबका साथ सबका विकास को साकार करने का संकल्प लें।
राजस्थान मगरा विकास बोर्ड के अध्यक्ष श्री हरिसिंह रावत ने दिवेर में 6.5 करोड़ से प्रताप स्मारक और कमेरी में पन्नाधाय पेनोरमा आदि ऎतिहासिक गतिविधियों के लिए मुख्यमंत्री की सराहना की।


सांसद श्री हरिओमसिंह राठौड़ ने मेवाड़ के इतिहास पुरुषों व ऎतिहासिक स्थलों के विकास के लिए सरकार के प्रयासों की सराहना की और केंद्रीय गृहमंत्री से महाराणा कुम्भा से संबंधित स्थलों के संरक्षण और विकास के लिए प्रभावी प्रयासों में भागीदारी निभाने का आग्रह किया।
आरंभ में केंद्रीय गृहमंत्री का स्वागत सांसद श्री हरिओमसिंह राठौड़ ने पुष्पगुच्छ से स्वागत किया जबकि भंवरसिंह लसानी ने प्रतीक चिह्न भेंट किया। समिति के अध्यक्ष श्री नारायणलाल उपाध्याय ने स्वागत भाषण दिया और महाराणा कुम्भा के जीवन और ऎतिहासिक र्कीति गाथा पर विस्तार से बताया। विधायक सुरेन्द्रसिंह राठौड़ व चौधरी आदि महाराणा कुंभा व इतिहास पुरुषों से संबंधित स्थलों के विकास का आग्रह किया।
केन्द्रीय गृह मंत्री सहित सभी वक्ताओं ने की मुख्यमंत्री की तारीफ
केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथसिंह सहित सभी वक्ताओं ने राजस्थान की विरासतों के संरक्षण, ऎतिहासिक महत्व के स्थलों, वीरों-वीरांगनाओं, इतिहास पुरुषों और कला-संस्कृति और परंपराओं के संरक्षण संर्वधन के लिए मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे के प्रयासों की मुक्त कंठ से सराहना की। केंद्रीय गृह मंत्री ने इस दिशा में मुख्यमंत्री और राजस्थान सरकार की तारीफ की और कहा कि राजस्थान को योग्य, सक्षम और तेज़तर्रार सीएम मिली हैं। आभार प्रदर्शन श्री अमरसिंह (लसानी) ने किया।
केन्द्रीय गृह मंत्री का माल्यावास पहुंचने पर स्वागत
इससे पूर्व केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथसिंह रविवार को बीएसएफ हेलीकाप्टर से दोपहर 1.55 बजे राजसमन्द ज़िले के मदारिया पहुंचे।
सभास्थल के पास बने हेलीपेड पर गृह मंत्री श्री गुलाबचंद कटारिया, उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी, ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज मंत्री श्री राजेन्द्र राठौड़, राजस्थान मगरा विकास बोर्ड के अध्यक्ष श्री हरीसिंह रावत, राजस्थान धरोहर संरक्षण प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री ओंकारसिंह लखावत, सांसद श्री हरिओमसिंह राठौड़ एवम श्री सीपी जोशी, संभागीय आयुक्त भवानीसिंह देथा, पुलिस महानिरीक्षक आनंद श्रीवास्तव, विधायक सुरेन्द्रसिंह राठौड़ व केसाराम चौधरी, लोकेन्द्रसिंह कालवी, प्रभारी सचिव श्री आनंदकुमार, जिला कलक्टर श्री पीसी बेरवाल, जिला पुलिस अधीक्षक श्री मनोजकुमार, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री बृजमोहन बैरवा, मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री गोविन्दसिंह राणावत, जिलाप्रमुख श्री प्रवेश कुमार सालवी, सभापति श्री सुरेश पालीवाल, समाजसेवी श्री भंवरलाल शर्मा सहित क्षेत्र भर के प्रमुख जन प्रतिनिधियों ने अगवानी व स्वागत किया।

केन्द्रीय गृहमंत्री ने महाराणा कुंभा की कुलदेवी चामुण्डा माता के दर्शन किए,
देश की खुशहाली के लिए की प्रार्थना


राजसमन्द ।केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने रविवार को जिले के माल्यावास (देवगढ़) में महाराणा कुम्भा की जन्म स्थली के समीप स्थित महाराणा कुंभा की कुलदेवी चामुण्डा माता मन्दिर में दर्शन किए और देश की खुशहाली के लिए प्रार्थना की। मन्दिर के पुजारी भगवतीलाल शर्मा, रमेशचन्द्र जोशी एवं ललित व्यास ने मंत्रोच्चार से विधिपूर्वक पूजा-अर्चना करवाई।
इस अवसर पर राज्य के गृहमंत्री श्री गुलाबचन्द कटारिया, सांसद श्री हरिओम सिंह राठौड़, स्थानीय विधायक एवं मगरा विकास बोर्ड के अध्यक्ष श्री हरिसिंह रावत, जिला कलक्टर श्री पी.सी.बेरवाल, जिला पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार आदि उपस्थित थे। इस अवसर पर सांसद श्री राठौड़ एवं श्री रावत ने महाराणा कुम्भा की जन्म स्थली एवं चामुण्ड़ा माता के सम्बन्ध में संक्षित जानकारी दी।

Read more »

मण्डावर के मांगू सिंह को मिला “मुख्यमंत्री स्वच्छता सम्मान”

By |

करवा चौथ पर शौचालय गिफ्ट करने पर मिला सम्मान

राजसमंद जिले के भीम उपखंड क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत मण्डावर में सरपंच प्यारी रावत के प्रेरणा पर करवा चौथ के उपलक्ष पर शौचालय बना कर अपनी पत्नी को भेंट करने हेतु मंडावर (कनियातों की गुआर) निवासी मांगू सिंह रावत को राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के द्वारा स्वच्छ भारत मिशन में नवाचार करके क्षेत्र में प्रेरणास्त्रोत बनने पर “मुख्यमंत्री स्वच्छता सम्मान” प्रदान किया गया । मांगू सिंह को मुख्य-मंत्री स्वच्छता सम्मान मिलने पर सरपंच प्यारी रावत, ग्राम सेवक भगवान सहाय मीणा, पंचायत सहायक राजेंद्र सिंह, मेघ सिंह, चंदन सिंह, प्रेरक प्रेम सिंह, सुमित्रा चौहान, मगरा विकास मंच अध्यक्ष जसवंत सिंह, ग्राम विकास समिति अध्यक्ष चुन्नासिंह चौहान, बीजेपी अध्यक्ष नेतसिंह कनियात, वार्डपंच पानी देवी कार्यकर्ता सायर देवी ने हर्ष व्यक्त किया है।

करवा चौथ पर शौचालय किया था गिफ्ट

स्वच्छ भारत मिशन के तहत सरपंच प्यारी रावत के प्रेरणा पर मांगू सिंह ने अपनी पत्नी को करवा चौथ पर शौचालय बना कर गिफ्ट किया था । इस बात को लेकर गांव, पूरे जिले एवं देशभर में चर्चा का विषय बना रहा ।इस तरह करवा चौथ पर शौचालय गिफ्ट करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्विटर पर ट्वीट किया और प्रेरणास्त्रोत मांगू सिंह व सरपंच प्यारी रावत को बधाइयां प्रेषित की।

Read more »

स्वर्णिम विकास के इन्द्रधनुष दर्शा रहा है राजसमन्द

By |

 


राजसमन्द। प्रकृति और परिवेश की तमाम खूबियों, मन को सुकून देने वाली आबोहवा और विकास के तमाम आयामों से लेकर आधुनिक सरोकारों तक के मामले में आज का राजस्थान अपने आप में सतरंगी तरक्की का दिग्दर्शन करा रहा है।

राजस्थान का हर भूभाग अपने आप में ढेरों खासियतों से इतना अधिक भरा-पूरा है कि यहाँ प्रकृति अपने तमाम रूप-रंगों और विलक्षणताओं के साथ विद्यमान है।
राजस्थान प्रदेश में राजसमन्द झील के नाम पर स्थापित राजसमन्द जिला अपने भीतर इतनी अधिक खूबियों को समाहित किए हुए है कि जो इस भू भाग में आता है वह तन-मन के सुकून और दिमागी ताजगी के अनुभव के साथ ही इतना अधिक प्रफुल्लित हो उठता है कि बार-बार इस धरा की ओर आकर्षित होने का लोभ संवरित नहीं कर पाता। राजसमन्द के अनुपम सौन्दर्य और लोक लहरियों के आनन्द को वही जान सकता है जो यहाँ की आबोहवा में विचरण या निवास कर चुका है।
झर रहे ऎतिहासिक गाथाओं के प्रपात
प्रातः स्मरणीय वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप के शौर्य और पराक्रम की गाथाओं की गूंज से ओज-तेज से भरे-पूरे राजसमन्द की पहचान देश और दुनिया में है। ऎतिहासिक और पुरातात्ति्वक महत्व के प्राचीन दर्शनीय एवं पर्यटन स्थलों, नैसर्गिक रमणीयता से परिपूर्ण पहाड़ों, घने जंगलों और हरियाली का समन्दर दर्शाती यह धरा प्राचीन काल से आकर्षण का केन्द्र रही है।
सब कुछ है अभिराम
राजसमन्द झील के नाम से प्रसिद्ध राजसमन्द जिला अपने भीतर इतनी अधिक विलक्षणताओं से भरा है कि ऎसा और कोई क्षेत्र अन्यत्र नहीं है जो जन-मन को सभी प्रकार के आनंद और उल्लास से भरा रख सके।
धार्मिक आध्यात्मिक दृष्टि से राजसमन्द जिले में एक छोर पर प्रभु श्रीनाथजी का वैभव है तो दूसरी ओर श्रीचारभुजानाथ का श्रद्धा तीर्थ, कांकरोली में भगवान श्री द्वारिकाधीश बिराज रहे हैं और जिले भर में धर्मस्थलों की दीर्घ श्रृंखला आस्था और विश्वास का समन्दर उमड़ाती रही है।
लोक लहरियोें का आकर्षण
देश-विदेश के सैलानियों के लिए राजसमन्द का मनोरम परिवेश और यहाँ की परंपराएं बहुत अधिक लुभाने वाली हैं। शिल्प-स्थापत्य, धर्म-अध्यात्म की विशेषताओं को समेटने वाले राजसमन्द जिले की कला-संस्कृति, परम्पराएं और लोक लहरियाँ अन्यतम आकर्षण जगाने वाली रही हैं।
आध्यात्मिक विभूतियों, स्वतंत्रता सेनानियों और लोक सेवियों की इस पावन धरा का जर्रा-जर्रा माधुर्य, सौहार्द और उल्लास की अनुभूति कराने वाला है।
राजसमन्दवासियों की धड़कन राजसमन्द की झील व अभिराम नौचौकी की पाल का दिग्दर्शन और सामीप्य जमीं, आसमाँ और पानी तक से जुड़ी सभी आनंदधाराओं का ऎसा अनुभव कराता है कि जो एक बार यहाँ आता है वह बार-बार राजसमन्द की धरा पर आने को उत्सुक रहता है।
श्रद्धा, सौन्दर्य और नैसर्गिक रमणीयता की त्रिवेणी बहाने वाले राजसमन्द की बहुआयामी ख्याति को सुनने वालों के मन-मस्तिष्क में भी जिज्ञासाओं का ज्वार तब तक उमड़ता रहता है, जब तक कि एक बार साक्षात न कर लें।
हिलोरें ले रहा झील का उल्लास
राजसमन्द झील के प्रति जन-मन की अगाध आस्था और आत्मीयता का उमड़ता दरिया उस समय देखने को मिला जब 44 साल के बाद झील चरम यौवन पाकर छलक उठी। करीब माह भर तक राजसमन्द झील स्थानीय और देशी-विदेशी सैलानियों, झील और प्रकृति प्रेमियों का मन मोहती रही।
जिला बने अभी कुछ वर्ष ही हुए हैं लेकिन क्षेत्र के जन प्रतिनिधियों की आंचलिक विकास के प्रति सार्थक पहल और आत्मीय एवं समर्पित भागीदारी की वजह से राजसमन्द प्रदेश के विकासशील जिलों में अग्रिम पहचान बनाने लगा है और कई मायनों में विकसित क्षेत्र की ऊँचाइयां पा चुका है।
सुनहरा विकास परवान पर
बुनियादी सुविधाओं एवं सेवाओं की उपलब्धता के साथ ही विकास से जुड़े कई पहलुओं में राजसमन्द आज महानगरों की हौड़ करने लगा है।
दीर्घकालीन विकास की दृष्टि से रेल सुविधाओं में विस्तार के प्रयासों, स्टेट व नेशनल हाईवे, लोकोपयोगी संसाधनों की उपलब्धता आदि के साथ ही अनेक दूरगामी परिणाम देने वाली योजनाएं मूर्त रूप ले रही हैं। सरकार की सामुदायिक विकास तथा वैयक्तिक उत्थान की योजनाओं, कार्यक्रमों, अभियानों, परियोजनाओं आदि का ठोस क्रियान्वयन होने के साथ ही सामाजिक सरोकारों के निर्वहन में यह जिला आगे ही आगे रहा है।
गूंज रहे तरक्की के तराने
आम जन के उत्थान के लिए कई नवाचारों ने मूर्त रूप लेते हुए अपने उद्देश्यों में आशातीत सफलता हासिल की है। मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान, स्वच्छ भारत मिशन और इसी तरह की कई गतिविधियों ने लोक जीवन और परिवेश को नई व ताजगी भरी दिशा-दृष्टि प्रदान की है।
सुकून का अहसास
जन समस्याओं के त्वरित निस्तारण की पहल, मेलों, पर्वों, उत्सवों की परंपराओं के बेहतर निर्वहन, सरकार की फ्लेगशिप योजनाओं, मुख्यमंत्री बजट घोषणाओं से लेकर विभिन्न विभागों की गतिविधियों ने क्षेत्रीय विकास और जन कल्याण की भावनाओं को साकार करते हुए आम जन को सुकून का अहसास कराया है।
जन-जन की भागीदारी से राजसमन्द जिला आज निरन्तर विकास की डगर पर तेजी से बढ़ता हुआ अपनी खास पहचान कायम करता जा रहा है। आज का राजसमन्द न केवल राजस्थान बल्कि देश के तीव्र प्रगतिशील जिलों में शामिल हो चुका है।

 

 

– डॉ. दीपक आचार्य

सहायक निदेशक (सूचना एवं जनसम्पर्क )
राजसमन्द

 

Read more »

मण्डावर में पर्यावरण विकास के लिए काम करेगा मुंबई मित्र मंडल

By |





राजसमंद ।जिले के भीम उपखंड क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत मण्डावर में मुंबई मित्र मंडल के अंग्रेजी समाचार पत्र स्पीक आउट के संपादक उत्तम पिपाडा, समाजसेवी अरविंद भरसाडिया, एवं रमेश मेहता के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने सरपंच प्यारी रावत, मगरा विकास मंच राजस्थान अध्यक्ष जसवन्त सिंह मण्डावर के सानिध्य में मिलकर ग्राम पंचायत मण्डावर का दौरा कर गांव के विकास योजना, भविष्य की प्लानिंग से संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई।
स्पीक आउट समाचार पत्र के संपादक उत्तम पीपाड़ ने बताया मण्डावर ने प्रत्येक क्षेत्र में नाम कमाया है । मण्डावर की मुम्बई तक चर्चा होती है।




समाजसेवी अरविंद भरसाडीया ने गांव के विकास के लिए किए गए कार्यों की समीक्षा की। पर्यावरणविद रमेश चंद्र मूथा ने मंडावर में हरित क्रांति लाने के लिए ग्राम पंचायत मंडावर के सहयोग से कार्य करने की बात कही एवं आगामी वर्षों में मंडावर सहित आसपास गांव में उपयोगी, फलदार, औषधीय पौधे लगाकर हरित क्रांति अभियान की शुरुआत की बात कही।
इस अवसर पर मंडावर सरपंच प्यारी रावत, मगरा विकास मंच राजस्थान अध्यक्ष जसवंत सिंह मंडावर, नशा मुक्ति अध्यक्ष रणजीत सिंह सोलीखेड़ा, जवाजा ब्लॉक अध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह लोटियाना, प्रेरक प्रेम सिंह चैहान, भूर सिंह समेत कई गणमान्य महानुभाव मौजूद थे।



Read more »

कुंजन भाटिया ने बढ़ाया राजसमन्द का गौरव

By |








राजसमंद। चित्तौड़गढ़ में चार दिवसीय पं.दीनदयाल उपाध्याय राज्य स्तरीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी 2017-18 में स्थानीय सनराइज अकेडमी सेकंडरी विद्यालय की कक्षा 7 की छात्रा कुंजन भाटिया ने डिजिटल एवं तकनीकी हल विषय में जूनियर वर्ग में अपने मॉडल – एक संपूर्ण गृह सुरक्षा यंत्र के लिए राज्य स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त कर राजसमन्द जिले का गौरव बढ़ाया। इस प्रदर्शनी में सम्पूर्ण राजस्थान के 28 जिलों के विभिन्न विद्यालयों से सीनीयर ग्रुप में कक्षा 9से 12 के 202 व जूनियर ग्रुप में कक्षा 6 से 8 के 82 सहित कुल 284 छात्र-छात्राओं ने विभिन्न विषयों पर अपने प्रादर्शों के साथ भाग लिया। इस उपलब्धि पर प्रशासिका शिप्रा भाटिया ने छात्रा कुंजन भाटिया व मार्गनिर्देशक महेंद्र सिंह जी को बधाई दी और यह भी बताया कि राज्य स्तर पर प्रथम, द्वितीय व् तृतीय स्थान पर रहे विद्याथियों को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद द्वारा आयोजित होने वाली राष्ट्रीय स्तर प्रदर्शनी में भेजा जायेगा।



Read more »

हल्दीघाटी में महाराणा प्रताप राष्ट्रीय स्मारक की दुर्दशा पर जिम्मेदार हुए मौन !!

By |





विकास के नाम पर हुए भ्रष्टाचार की उच्च स्तरीय जाँच एजेंसी से जांच कराने की मांग

राजसमंद । राजसमंद जिला प्रशासन को धोखे में रख राष्ट्रीय स्मारक हल्दीघाटी व चेतक स्मारक के नजदीक सड़क पर बलीचा में घोड़े की मूर्ति लगाने के नाम पर सरकारी भूमि पर अतिक्रमण करने व कथित संग्रहालय नाम की दुकान के आगे आ रही पहाड़ी नष्ट करने की साजिश का मामला प्रकाश में आया हैं। पूर्व में सन २००७ की बैठकों में चेतक नाले पर बने व्यू पॉइंट पर घोड़े की मूर्ति लगाने की योजना थी।
जानकारी के अनुसार यह सोची समझी साजिश के तहत घोड़े का एकदिवसीय मेला कराने की आड़ में बेशकीमती भूमि पर अतिक्रमण का मामला है जिस पर प्रशासनिक सवा तीन लाख की अलग से स्वीकृति संदेह को गहरा करती है। उनवास ग्राम पंचायत के जनसेवकों का कहना है कि जिला प्रशासन को इसकी पूर्व में लिखित सूचना देकर किसी भी प्रकार के आवंटन पर रोक लगाने की मांग की गई थी। आराजी संख्या 924 चरागाह को बिलानाम करा कर पूर्व में भी इसी तरह अतिक्रमण कर ५ बीघा जमीन तो हड़पी जा चुकी है अब शेष रह गई जमीन पर पार्किंग बना कर राजस्व नुकसान सहित ऐतिहासिक प्राकृतिक धरोहर को नब्बे फीसदी नष्ट किया जा चुका है। हालात यह है कि बलीचा निवासी वर्तमान अतिकर्मी सेवानिवृत शिक्षक द्वारा हल्दीघाटी को अपनी निजी दुकान बना कर रख दी गई है। .. रक्त तलाई – शाहीबाग-हल्दीघाटी दर्रा – चेतक समाधी व स्मारक पर्यटकों के अभाव में सूने पड़े रहते व भ्रमित सूचनाओं के आधार पर पर्यटक सीधा बलीचा जाकर उसे ही हल्दीघाटी समझ 100 रुपया खर्च कर भी मूल धरोहरों को देखने से वंचित रह जाता है।



भ्रष्टाचार की भी कोई तो सीमा होगी ? देश के प्रधान सेवक की राष्ट्रभक्ति पर शक नहीं किया जा सकता तो क्या उनके अधीन आ रहे राजसमंद के सभी जन सेवक भी उसी ईमानदारी के साथ महाराणा प्रताप के स्थलों के साथ न्याय कर रहे है ? यह सोचनीय एवं गंभीर विषय है। अब पूंजीवाद के आगे आखिर कब तक नेता व अधिकारी अपनी आँख बंद कर महाराणा प्रताप राष्ट्रीय स्मारक हल्दीघाटी सहित समूची रणभूमि के बदहाल हालात देखते रहेंगे? राष्ट्रीय महत्व के स्मारक का शिलान्यास 1997 में होता है व महाराणा प्रताप की चेतक पर अश्वारूढ़ प्रतिमा २००९ में लगती है ! बावजूद इसके संरक्षण सभी जिम्मेदार अधिकारी व नेता न जाने कौनसी हिस्सेदारी निभाने के फेर में भ्रष्ट अतिकर्मी को सरकारी भूमि पर अतिक्रमण करने व सरकारी संग्रहालय को कागजों में दबा कर निजी दुकान की स्वीकृति दे देते है ? सत्य यह है कि २००७ में चेतक द्वारा लांघे गए ऐतिहासिक नाले पर पर्यटकों के लिए व्यू पॉइंट बनाने व यहाँ पर घोड़े की मूर्ति लगाने का प्रारूप रहा था ! अव्वल अधूरे स्मारक का उद्घाटन किया गया , सिर्फ इतना ही नहीं इसके सं्चालन की जिम्मेदारी जिला कलक्टर के अधीन १९९३ में बने कागजी महाराणा प्रताप स्मृति संस्थान को सौंपी गई। आखिर पूंजीवादी संस्थापक महासचिव श्रीमाली को यह बात कहाँ गले उतरने वाली थी। … उसके द्वारा सरकार को बौना साबित करने के चक्कर में कई हथकंडे अपनाये गए व आज पूरी पहाड़ी का प्राकृतिक स्वरुप ही नष्ट कर दिया गया हैं ! पर्यटकों को भ्रमित करने के लिए सड़कों पर बलीचा में चल रही निजी दुकान को संग्रहालय का नाम देकर देश के बड़े बड़े नेताओं सहित शीर्ष अधिकारियों इस कदर गुमराह किया हुआ कि पर्यटक हल्दीघाटी के नाम पर चल रही निजी दुकान में 100 रूपये देख मेवाड़ के महानायक वीर शिरोमणि महराणा प्रताप का नकली भाला व अन्य सामग्री देख ठगे जा रहे हैं
उदयपुर के पर्यटन विभाग ने तो जैसे समूची हल्दीघाटी पूर्व में आरटीडीसी चलाने वाले अतिकर्मी ठेकेदार को ही ठेके पर दे रखी हो ऐसा बर्ताव कर महाराणा प्रताप का दशकों से अपमान किया है। अब देखना यह है कि, कौनसा देशभक्त जनसेवक इस रणधरा की सुध लेकर भ्रष्ट पूंजीवादी ताकतों को संविधान के अनुसार न्याय दिलायेगा। स्थानीय हल्दीघाटी पर्यटन समिति के संस्थापक कमल मानव ने राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री ,गृहमंत्री , पर्यटन मंत्री सहित प्रदेश की मुख्यमंत्री से हल्दीघाटी के विकास एवं वर्तमान तक विकास के नाम पर हुए भ्रष्टाचार की जाँच करवाए जाने की सोशल मीडिया पर ट्वीट कर माँग की है।
उल्लेखनीय है कि स्थानीय उपखण्ड स्तरीय सतर्कता समिति में २००७ में भी अतिक्रमण की शिकायत पर अतिकर्मी मोहनलाल श्रीमाली को भविष्य में किसी भी प्रकार का कोई अतिक्रमण नहीं करने को पाबंद कराया गया था।


Read more »

जिला प्रभारी मंत्री का स्वागत- पर्यटन केन्द्र की मांग

By |








नाथद्वारा।राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा नाथद्वारा द्वारा पर्यटन मंत्री एवं नागरिक उड्डयन मंत्री कृष्णेन्द कोर दीपा, राजस्थान सरकार का स्वागत किया गया । राजसमंद जिलाध्यक्ष सदीप सनाढय व महिला अध्यक्ष संगीता शर्मा , योग गुरू प्रवीण सनाढय,लालन सनाढय आदि पदाधिकारी गण द्वारा माला पहनाकर उपरना ओढ़ा कर श्रीनाथजी की तस्वीर भेंट की और नाथद्वारा नगर के पर्यटन के विकास के लिये चर्चा कर राजसमन्द जिले मे पर्यटक सहायता केन्द्र खोलने की मांग की गई ।



Read more »

सोशल मीडिया पर कार्यशाला का आयोजन

By |




राजसमंद। आर एस एस के प्रचार विभाग ने रविवार को सोशल मीडिया पर एक कार्यशाला का आयोजन 100 फीट रोड स्थित मधुकर भवन में किया। विभाग प्रचार प्रमुख पुष्पेन्द्र पणिक्कर ने सोशल मीडिया पर प्रजेंटेशन दिया। इस दौरान उन्होंने सोशल मीडिया की उपयोगिता के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की। साथ ही इसके व्यापारिक, सकारात्मक और नकारात्मक प्रभाव के बारे में बताया। जिला प्रचार प्रमुख गिरिराज श्रीमाली ने सोशल मीडिया में साइबर क्राईम के कैसे बचा जाए इसकी जानकारी प्रदान की। कार्यशाला में 30 लोगों ने अपनी सहभागिता निभाई। नगर प्रचार प्रमुख अजीत उपाध्याय ने कार्यशाला में मौजूद लोगों का धन्यवाद ज्ञापित किया।

Read more »