सी वारियर्स ने समंदर में रचा कीर्तिमान

राजसमंद/ मुंबई। छह दिव्यांग तैराकों की टीम ‘सी-वारियर’ ने मुंबई के धमतल (अरब सागर) से समंदर में सीटएसटी स्टेशन के पास भाऊ रा ढाका तक की 40 किलोमीटर की दूरी 9 घण्टे 8 मिनट 39 सेकंड में तय कर इंग्लिश चैनल के बाद एक बार फिर नेशनल लिम्का बुक रिकॉर्ड बनाया। देश में यह अपनी तरह का पहला अनूठा रिकॉर्ड है।
राजस्थान से राजसमंद जिले के केलवा निवासी अंतरराष्ट्रीय तैराक जगदीश तेली ने बताया कि वे भी रिकॉर्ड बनाने वाली टीम के सदस्य थे। गुुरुवार को अलसुबह 3.30 बजे मुंबई के धरमतल से उन्होंने अपने साथी दिव्यांग तैराकों की टीम ‘सी वॉरियर के साथ तैराकी शुरू की। पूरे सफर के दौरान कई बार समंदर की ऊंची लहरों ने हौसलों की परीक्षा ली लेकिन टीम के सभी छह सदस्यों ने अपनी अदम्य इच्छाशक्ति के दम पर आखिरकार दोपहर 12.39 बजे लक्ष्य हासिल कर ही लिया। 40 किलोमीटर की दूरी को तय करने में 9 घण्टे 8 मिनट 39 सेकंड का समय लगा। तैराकी टीम में विभिन्न राज्यों के तैराक शामिल थे जिसमें जगदीश चन्द्र तेली, राजस्थान, मंजीत कादयान, हरियाणा, गोरख शिन्दे, महाराष्ट्र, विनोद जाटव, मध्यप्रदेश, इन्द्रेश पलान, गुजरात, गीतांजली चौधरी महाराष्ट्र से थीं। पूरे अभियान के दौरान लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड की टीम साथ रही। उन्होंने पूरे अभियान को शूट भी किया जिसकी डाक्यूमेंट्री भी बनाई जाएगी। इस इवेंट की समाप्ति पर महाराष्ट्र पैरा स्विमिंग के प्रेसिडेंट राजा राम घाट और वाइस प्रेसिडेंट सत्य प्रकाश तिवारी ने मोमेंटो और प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया
इंग्लिश चैनल पार चुके व कई स्पर्धाओं में स्वर्ण पदक जीत चुके राजस्थान के जगदीश तेली ने बताया कि इस टीम में भागीदारी करने का उनका मकसद यह था कि वे इसी साल अगस्त महीने में अमेरिका में स्थित कैटलीना चैनल अपनी ‘इंडियन पैरा रिले टीम के साथ मिलकर पार कर एक नया विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले हैं। उसके लिए धन जुटाना फिलहाल सबसे बड़ी चुनौती है। इस चैनल के लिए जगदीश को 8 से 10 लाख रुपए की राशि की जरूरत है मगर अब तक तीन लाख की ही व्यवस्था हुई है। जगदीश को उम्मीद है कि शीघ्र ही स्पोंसर्स मदद को सामने आएंगे।
गौरतलब है कि जगदीश अब तक राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर की कई प्रतियोगिताओं में भाग लेकर 71 से ज्यादा मैडल जीत चुके हैं। साथ ही इंटरनेशनल पैरा तैराकी प्रतियोगिता में भी भाग ले चुके हैं। पिछले साल 24 जून, 2018 को रिले के माध्यम से उन्होंने इंग्लिश चैनल पार कर विश्व स्तर पर ख्याति पाई थी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *