पेयजल सहित बुनियादी लोक सुविधाओं के प्रति गंभीरता बरतें – श्रीमती कृष्णेन्द्र कौर दीपा

प्रभारी मंत्री ने राजसमन्द में ली समीक्षा बैठक, अधिकारियों को दिए निर्देश

सांसद, विधायक एवं जिलाप्रमुख ने समग्र विकास पर रखे विचार

राजसमन्द। राजसमन्द जिले की प्रभारी मंत्री, पर्यटन, कला, संस्कृति, पुरातत्व एवं नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री श्रीमती कृष्णेन्द्र कौर (दीपा) ने ग्रीष्मकाल में पानी-बिजली और तमाम बुनियादी जन सुविधाओं पर गंभीरता से ध्यान देने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं और कहा है कि सम सामयिक हालातों पर निगाह रखें। जहां कहीं पेयजल की समस्या सामने आए, तत्काल समाधान करें और लोगों को राहत प्रदान करें। प्रभारी मंत्री ने गुरुवार को राजसमन्द जिला कलक्ट्री सभाकक्ष में जिलास्तरीय समीक्षा बैठक में अधिकारियों को यह निर्देश दिए।

 

प्रभारी मंत्री ने पेयजल प्रबंधन को सर्वोच्च प्राथमिकता देने के निर्देश दिए और कहा कि पेयजल के लिये सवेरे शाम 2-2 घंटे बिजली आर्पूति हर हाल में सुनिश्चित करें। पानी के मामले में विशेष सर्तकता बरतें। हैंड पंप मरम्मत के प्रति गंभीरता रखें। पानी के नमूनों को चेक कराएं। उन्हाेंने अग्रणी जिला प्रबन्धक से कहा कि बैंकों को निर्देश दें कि जरूरतमंदों को सहयोग करें, सरकारी योजनाओं का पूरा लाभ दें और बेवजह जनता के कामों व स्वीकृतियाें को लम्बित न रखें।

प्रभारी मंत्री ने अधिकारियों से कहा जनता के कामों के प्रति गंभीर रहें, अपनी गतिविधियों, प्रस्तावों और स्वीकृतियों की जानकारी जन प्रतिनिधियों को भी उपलब्ध कराएं और उनसे राय-मशविरा करते रहें।  संपर्क पोर्टल पर लंबित प्रकरणों का शीघ्र निस्तारण करें।

       ऎहतियाती वैकल्पिक प्रबन्ध जरूरी

सांसद हरिओमसिंह राठौड़ ने कहा कि पेयजल की उपलब्धता सुनिश्चित करना जरूरी है और इसके लिए बिजली सुविधा के विकल्प हमेशा तैयार रहने चाहिएं ताकि एक जगह से बिजली की कोई समस्या सामने आने पर अन्य व्यवस्था से पेयजल मुहैया कराया जा सकें। उन्होंने बिजली व्यवस्था की निरन्तर मोनिटरिंग करने पर भी बल दिया।

सांसद ने सामाजिक एवं राष्ट्रीय सरोकारों व वैयक्तिक लाभ की विभिन्न योजनाओं में पात्र जरूरतमंदों को जोड़ कर लाभान्वित करने का आह्वान किया। उन्होंने भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में आ रही व्यवहारिक समस्याओं के निवारण पर जोर दिया और कहा कि इस योजना को सफल बनाने के लिए जरूरी है कि इसमें निजी अस्पतालों की सुस्पष्ट और पारदर्शी भूमिका सुनिश्चित की जाए।

       क्षेत्रीय समस्याओं का निराकरण हो

नाथद्वारा विधायक कल्याणसिंह चौहान ने राजसमन्द जिले से संबंधित आधारभूत सेवाओं और लोक सुविधाओं के संवहन में आ रही व्यवहारिक दिक्कतों की ओर ध्यान आकर्षित किया और इनके निराकरण के लिए ठोस कार्य करने पर बल दिया। विधायक ने  शिक्षकों व विद्यार्थियों के अनुपात में शिक्षक लगाने और विद्यालयों की व्यस्थाओं को मज़बूत करने पर जोर दिया। जिलाप्रमुख प्रवेश कुमार सालवी ने ग्राम्यांचलों की समस्याओं और विकास की संभावनाओं पर विचार रखे।

       प्रभारी सचिव ने बिन्दुवार समीक्षा की

प्रभारी सचिव आनंद कुमार ने विभिन्न योजनाओं, कार्यक्रमों व अभियानों की बिन्दुवार समीक्षा की और अधिकारियों से कहा कि वे लक्ष्यों के अनुरूप सफलता पाने के लिए हर स्तर पर बेहतर प्रबन्ध सुनिश्चित करें।  उन्होंने मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान में उगाये पौधे वन विभाग को सौंपने, वित्तीय स्वीकृति जारी करने में विलंब न करने तथा अन्य आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

       जिला कलक्टर ने किया स्वागत

जिला कलक्टर पीसी बेरवाल ने इस अवसर पर प्रभारी मंत्री एवं प्रभारी सचिव, जन प्रतिनिधियों का स्वागत किया और कहा कि राजसमन्द जिला प्रशासन और अधिकारीगण जिले के समग्र विकास में कोई कमी नहीं रखेंगे और पूर्ण समन्वय के साथ बेहतर काम-काज दर्शाएंगे।

बैठक का संचालन अतिरिक्त जिला कलक्टर बृजमोहन बैरवा ने किया। बैठक में विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने अपने-अपने विभागों की गतिविधियों व योजनाओं की जानकारी दी।

बैठक में  सांसद हरिओमसिंह राठौड़, विधायक कल्याणसिंह चौहान, जिला प्रमुख प्रवेश सालवी, नगर परिषद के सभापति सुरेश पालीवाल, प्रभारी सचिव आनंद कुमार, जिला कलेक्टर प्रेमचंद बेरवाल, जिला पुलिस अधीक्षक  मनोज कुमार, अतिरिक्त कलेक्टर बृज मोहन बैरवा, जिला वन अधिकारी कपिल चंद्रावत, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुश्री रौनक बैरागी, नगर परिषद आयुक्त बृजेश राय, पर्यटन विभाग की संभागीय उप निदेशक सुश्री सुमिता सरोच सहित जिले के प्रधानगण और जिलास्तरीय अधिकारीगण मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *