राजसमन्द में एक करोड़ की लागत से निर्मित शहीद स्मारक एवं उद्यान का लोकार्पण

नई पीढ़ी में देशभक्ति की भावना और समर्पण के संस्कारों का संवहन जरूरी – श्रीमती माहेश्वरी

देवता तुल्य हैं हमारे शहीद, उनके प्रति श्रद्धा और सम्मान रखें – श्री बाजौर

सांसद राठौड़ ने दिया सुझाव – राजसमन्द की पहाड़ी पर बने प्रताप स्मारक

राजसमन्द। उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी ने राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष प्रेम सिंह बाजोर और राजसमंद सांसद हरिओम सिंह राठौड़ तथा जन प्रतिनिधियों की मौजूदगी में राजसमन्द जिला मुख्यालय पर सौ फीट रोड क्षेत्र में  नगर परिषद द्वारा एक करोड़ की लागत से निर्मित अमर जवान ज्योति स्मारक एवं उद्यान का लोकार्पण मंगलवार शाम को किया।

श्रीमती माहेश्वरी एवं अतिथियों ने फीता काटकर स्मारक एवं उद्यान का उद्घाटन किया और लोकार्पण पट्टिका तथा भारत माता की मूर्ति का अनावरण किया। अमर जवान ज्योति  स्मारक पर पुष्पांजलि अर्पित की और सौ फीट ऊँचाई पर दिन-रात फहरने वाले राष्ट्रीय ध्वज का अवलोकन किया। अतिथियों ने नवग्रह उद्यान का अवलोकन भी किया।

अतिथियों ने जिले के शहीद परिवार की वीरांगनाओं रूडी देवी, फूलन देवी और पुष्पा कंवर को एकलई और शॉल ओढ़ाकर सम्मान किया। स्मारक और उद्यान निर्माण में उत्कृष्ट कार्यों के लिए कॉन्ट्रेक्टर और नगर परिषद के अभियंताओं को सम्मानित किया गया।

समारोह में जिला कलेक्टर श्यामलाल गुर्जर, आयुक्त बृजेश राय, समाजसेवी भंवरलाल शर्मा, कर्नल जगदेव सिंह, महेंद्र टेलर, सत्यनारायण पूर्बिया, सत्यनारायण काबरा, मानसिंह बारहठ, महेश पालीवाल, भानु पालीवाल, दिनेश पालीवाल, महेश आचार्य और अशोक टांक सहित जन प्रतिनिधिगण, पूर्व सैनिक एवं सैनिकों के परिजन, गणमान्य नागरिक, विभिन्न संस्थाओं के प्रतिनिधिगण, अधिकारीगण आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन उप सभापति अर्जुन मेवाड़ा ने किया। समारोह में आये अतिथियों व सम्मानितों का स्वागत सभापति सुरेश पालीवाल, पार्षद विजय बहादुर जैन और अन्य पार्षदों द्वारा किया गया।

पीढ़ियों तक होगा प्रेरणा का संचरण

उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी ने अपने उद्बोधन में राजसमंद में शहीदों की स्मृति में नगर परिषद द्वारा एक करोड़ की लागत से निर्मित स्मारक व उद्यान को देशभक्ति की भावना संचारित करने वाला बताया और कहा कि इससे युवाओं में देश भक्ति के संस्कार, कर्तव्य परायणता और समर्पण का विस्तार होगा। इस सुंदर और प्रेरक कार्य के लिए परिषद और सभी सहयोगियों को बधाई दी।

उच्च शिक्षा मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी और वीरांगनाओं को नमन किया तथा महात्मा गांधी व लाल बहादुर शास्त्री का स्मरण किया।

माहेश्वरी ने राजसमंद जिले को सैनिकों का क्षेत्र बताया और कहा कि भीम देवगढ़ व अन्य क्षेत्रों से बड़ी संख्या में सैनिक सरहद पर ड्यूटी निभा रहे हैं।

शहीदों के स्मारक मन्दिर से कम नहीं

राज्य सैनिक कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष प्रेमसिंह बाजोैर ने राजस्थान में सैनिक कल्याण की दिशा में किए गए कार्यों की जानकारी दी और नगर परिषद को शानदार स्मारक बनाने के लिए बधाई दी। उन्होंने शहीदों को देव तुल्य बताया और कहा कि आज उन्हीं की बदौलत हम स्वाधीनता पूर्वक जीवन निर्वाह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों में देश भक्ति के संस्कार जगाने की आवश्यकता है और इसके लिए शहीदों, उनके स्थलों और उनकी शौर्य गाथाओं से परिचित कराने का दायित्व हम सभी का है।

यादगार काम करें

प्रेमसिंह बाजोर ने जीवन में भलाई, अच्छा काम करने पर जोर दिया और कहा कि जो लोग अच्छे काम करते हैं उनकी पीढ़ियों को लाभ होता है और हमेशा याद रखे जाते हैं। उन्होंने भारत को विश्व गुरु बनाने में सहयोग के लिए समर्पित भागीदारी का और जात-पात और संकीर्णताओं से ऊपर उठकर देशभक्ति के जज्बे के साथ समर्पित जीवन जीने का आह्वान किया।

उन्होंने कहा कि सेवा के अपार अवसर है हर व्यक्ति यदि कुछ न कुछ सेवा का संकल्प ले ले तो देश स्वर्ग बन जाए। जन भागीदारी से ही समाज और देश का उत्थान संभव है। बाजोर ने मंत्री श्रीमती किरण माहेश्वरी की तारीफ की और कहा कि उनका कार्य और व्यवहार सराहनीय है।

सांसद ने दिए महत्वपूर्ण सुझाव

सांसद हरिओम सिंह राठौड़ ने महाराणा प्रताप की स्मृति में मोती मगरी की तर्ज पर राजसमंद की पहाड़ी विकसित करने की योजना बनाने का सुझाव नगर परिषद को दिया और कहा कि स्मारक में राजसमंद जिले के शहीदों के नाम व तिथि अंकित होनी चाहिए। उन्होंने इस स्मारक व उद्यान निर्माण के लिए नगर परिषद की सराहना की।

 

राजसमन्द नगर परिषद के सभापति सुरेश पालीवाल ने स्वागत भाषण दिया और राजसमन्द नगर परिषद द्वारा किए गए विकास कार्यों को गिनाते हुए कहा कि शहर में ऎतिहासिक और यादगार विकास किया है।

अतिथियों ने कर्नल जगदेव सिंह और वीरांगनाओं को प्रभु द्वारकाधीश की छवि भेंट की। नगर परिषद की ओर से सुरेश पालीवाल ने अतिथियों को प्रतीक चिह्व भेंट किए। आभार महेंद्र टेलर ने व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.